Browsed by
Category: Uncategorized

Thailand – Kaleidoscope Of My Childhood Memory

Thailand – Kaleidoscope Of My Childhood Memory

Thailand – I have childhood memories associated with this magnificent country. You may think that i have already visited here but no! The memories go back to the days when I was in school. At that time, I could not go anywhere, but it was very relaxing to read about new places. We had a subscription of the popular Indian monthly magazine Sarita. There was not much in the magazine for children, but every year I used to eagerly wait…

Read More Read More

गुजरात के डेडियापाडा में टीकाकरण की सफलता

गुजरात के डेडियापाडा में टीकाकरण की सफलता

घने जंगलों, नदियों और पहाडों से घिरा है गुजरात के नर्मदा जिले का डेडियापाडा तालुका। देखने में यह जगह किसी दूसरी प्रसिद्ध पहाड़ी जगह का मुकाबला करती नजर आती है। जहां तक नजर जाती हैं बस सागौन के जंगल नजर आते हैं। जंगलों के बीच छोटे-छोटे आदिवासी गांव बसे हैं। धान के खेत जंगल के बीच किसी हरी चादर से बिछे नजर आते हैं। यहां कुछ दिन बिताने हों तो जगह स्वर्ग से कम नहीं लगती। लेकिन कुछ दिन रूकें…

Read More Read More

पर्यटन का बदलता बाज़ार

पर्यटन का बदलता बाज़ार

जब से मैंने दुबई पोर्ट से मैजेस्टिक प्रिंसेस क्रूज का अपना सफर शुरू किया तब से जहाज पर कुछ ऐसा था जो मुझे अलग सा लग रहा था। जहाज पर मौज मस्ती का माहौल था, बढिया खाना था। धूप सेकने के लिए शानदार डेक और भरपूर समुद्री नजारे। हाथ में हाथ डालकर घूमते बहुत से जोडे दिखाई दे रहे थे। उनसे आंखे मिलती तो वे मुस्करा भर देते और अपनी दुनिया में खो जाते। कुछ लोग किताबें पढने में मग्न…

Read More Read More

भारतीय स्वाद से भरी जापानी सुशी

भारतीय स्वाद से भरी जापानी सुशी

खाने में मुझे भारतीय खाना ही पसंद है। दाल, चावल , सब्जी रोटी से ज्यादा कभी इच्छा भी नहीं रही। विदेशी खाने में मेरी पसंद चायनीज से आगे नहीं जाती। और भारत में बनने वाला चायनीज खाना अब चायनीज कम और भारतीय ज्यादा हो गया है। ऐसे में कोई मुझे जापानी खाने के लिए कहे तो मेरा चौंकना तो स्वाभाविक है। ऊपर से मेरे जैसे शाकाहारी के लिए जापानी खाना बात कुछ जमती नहीं। लेकिन खाने का शौक तो मुझे…

Read More Read More

फिर से ब्लाग मे…….

फिर से ब्लाग मे…….

एक साल से भी ज्यादा समय के बाद एक बार फिर से ब्लाग की दुनिया में वापस कदम रख रहा हूँ। किसी कारण से में इस इससे दूर हो गया था। लेकिन अब में फिर यहां वापस आया हूँ। लेकिन इस बीच भी मेरा दुनिया देखने का सिलसिला रुका नहीं और मैने भारत के बहुत से हिस्सो की यात्रा की। मैने जो कुछ भी देखा जल्द ही वो सब आप के सामने होगा। मेरे ना लिखने के बावजूद भी मेरे…

Read More Read More

डीडी न्यूज पर देखिये सियाचिन की जिंदगी

डीडी न्यूज पर देखिये सियाचिन की जिंदगी

आज रात दस बजकर तीस मिन‍ट पर देखिये सियाचिन और वहां की जिंदगी पर खास कार्यक्रम- सियाचिन एक झलक बर्फीली जिंदगी की। मैं पिछले महीने सियाचिन के सफर पर गया था । वहां हमारे दल ने पन्द्रह हजार फीट की उंचाई पर सियाचिन के बेस कैम्प तीन तक की चढाई की थी। ये कार्यक्रम हमारे सफर और वहा रह रहे सेना के जवानों पर है।

मुसाफिर की सफाई

मुसाफिर की सफाई

पिछला पोस्ट बिना टेक्स्ट के चला गया, गुनहगार -सा महसूस कर रहा हूं। लेकिन सच तो ये है कि तकनीकी नॉलेज में लिद्दड़ होना और ऐन वक्त पर अभिकलित्र यानी कंप्यूटर के धोखे की वजह से ऐसा हुआ। फिर अपने एक भाई की मदद से तस्वीरें लोड करनी चाहीं तो पोस्ट पब्लिश हो गईँ।

पर्यावरण के अनुकूल टाईल्स का प्रयोग करें

पर्यावरण के अनुकूल टाईल्स का प्रयोग करें

आज हमारे शहरों में पीने के पानी की कमा होती जा रही है। जमीन के नीचे का पानी इतनी तेजी से निकाला जा रहा है कि भू जल कम होता जा रहा है। जमीन के नीचे पानी की कमी को पूरा किया जा सकता है अगर सही तरीके से वर्षा के पानी को जमीन के नीचे पहुँचाया जा सके। ये समस्या हमारे शहरों में कुछ ज्यादा ही देखी जा रही है क्योंकि यहां पानी जमीन के नीचे नहीं जा पाता…

Read More Read More

एक कविता

एक कविता

अभी मेरे दोस्त नें एक कविता सुनाई देश के हालात को साफ बयां करता हैं। ये तो पता नही है कि किसने लिखी लेकिन आप भी पढिये। मेरा पहला लडका डाक्टर होकर बीमार हो गया, मेरा दूसरा लडका इंजीनियर होकर बेकार हो गया, मेरा तीसरा लडका आईएएस होकर लाचार हो गया, मेरा चौथा लडका नालायक लडका नेता बनकर देश का कर्णधार हो गया।

हजार के पार मेरा ब्लाग……..

हजार के पार मेरा ब्लाग……..

आज दोपहर को जब मैंने अपना ब्लाग देखा तो बेहद खुशी हुई। ढाई महीने के छोटे से समय में मेरा ब्लाग को पढने या देखने वालों की संख्या एक हजार को पार कर गई। रीडर मीटर पूरे १००० दिखा रहा था और मेरा मन खुशी से भरा जा रहा था। भले ही ये बहुत बडी संख्या नही है, दूसरों के ब्लाग इससे भी ज्यादा देखे और पढे गये होंगें। फिर भी एक हजार का आंकडा छूना मेरे लिए बडी बात…

Read More Read More