विश्व पर्यटन दिवस पर बात टूरिस्ट गाइड्स की जो हमारे घूमने के अनुभव को देते हैं नया नज़रिया

विश्व पर्यटन दिवस पर बात टूरिस्ट गाइड्स की जो हमारे घूमने के अनुभव को देते हैं नया नज़रिया

हम नई-नई जगहों पर घूमने जाते हैं। हम उन जगहों की इमारतों, किलों, महलों, बाज़ारों, खाने-पीने या प्राकृतिक सुन्दरता की बातें करते हैं। इस सबसे जुड़ी तस्वीरों को अपने सोशल मीडिया पर डालते हैं। लेकिन घूमने से जुड़े अनुभव को बेहतर बनाने वाले एक पेशे के बारे में हम न के बराबर चर्चा करते हैं और वह है टूरिस्ट गाइड। टूरिस्ट गाइड को आपको नई जगहें दिखाता है, उनके बारे में जानकरी देता है, हमारे अनुभव में नए पहलुओं को…

Read More Read More

विदेश मंत्रालय ने दी भारतीयों को वीज़ा-फ्री, वीज़ा-ऑन-अराइवल और ई-वीज़ा देने वाले देशों की जानकारी

विदेश मंत्रालय ने दी भारतीयों को वीज़ा-फ्री, वीज़ा-ऑन-अराइवल और ई-वीज़ा देने वाले देशों की जानकारी

भारत के विदेश मंत्रालय ने भारतीय पार्सपोर्ट धारकों को वीज़ा-फ्री, वीज़ा ऑन अराइवल और ई-वीज़ा की सुविधा देने वाले देशों की आधिकारिक जानकारी राज्य सभा में दी है।  विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने एक सवाल के जवाब में राज्य सभा में बताया कि कितने देशों में भारतीय आसानी से घूमने जा सकते हैं। इस जवाब के अनुसार भारतीय नागरिकों को 16 देश वीजा-फ्री, 43 देश वीज़ा-ऑन-अराइवल और 36 देश ई-वीज़ा की सुविधा दे रहे हैं। भारतीयों के लिए वीजा-फ्री…

Read More Read More

बिना वीज़ा या आसान ई-वीज़ा से इन देशों में करें ट्रैवल

बिना वीज़ा या आसान ई-वीज़ा से इन देशों में करें ट्रैवल

देश के बाहर घूमने जाना चाहते हैं तो सबसे पहले वीज़ा की ज़रूरत पड़ती है।  वीज़ा के बिना हम किसी दूसरे में देश में नहीं जा सकते। वीज़ा एक ऐसा डॉक्यूमेंट है जिसके ज़रिए कोई देश हमें अपने देश में आने की अनुमित देता है। कई देशों ने वीज़ा देने के लिए बहुत कड़े नियम बना रखे हैं जिससे वीज़ा लेने में काफी समय लगता है और मुश्किल भी होती है। लेकिन ऐसे भी कई ख़ूबसूरत देश हैं जहां भारतीय…

Read More Read More

कोरोना काल में ट्रैवल : क्या बरतें सावधानियां

कोरोना काल में ट्रैवल : क्या बरतें सावधानियां

मैं ट्रैवल राइटर हूं। इस वजह से कई बार जान पहचान के लोग और कई बार अनजान भी ट्रैवल से जुड़ी सलाह लेते रहते हैं। लॉक डाउन से पहले इस तरह की मैसेज या फोन अक्सर आया करते थे। लॉक डाउन के पहले फरवरी के आखिर में एक परिवार ने सलाह मांगी थी जो मलेशिया घूमने जा रहा था। मैं फरवरी के दूसरे हफ्ते में मलेशिया के सबाह से घूम कर वापस आया था। उनका कार्यक्रम मार्च के तीसरे हफ्ते…

Read More Read More

पर्यटन और फ़िल्मों के बीच है अटूट रिश्ता….

पर्यटन और फ़िल्मों के बीच है अटूट रिश्ता….

स्विटज़रलैंड के इंटेरलकेन शहर में भारत के मशहूर फ़िल्म निर्माता और निर्देशक यश चोपड़ा की मूर्ति लगी है। इसमें उन्हें फ़िल्म कैमरे के साथ खड़ा दिखाया गया है। सभी जानते हैं कि यश चोपड़ा को स्विटज़रलैंड से विशेष लगाव था। उनकी फ़िल्मों ने यहां के पहाड़ों, हरी-भरी वादियों और बर्फीली चोटियों की ख़ूबसूरती को भारत के घर-घर तक पहुंचाया। स्विटज़रलैंड सरकार ने उनके इसी योगदान की याद में मूर्ति स्थापित की है। वर्ष 2011 में उन्हें ‘अंबेसडर ऑफ इंटेरलकेन’ की…

Read More Read More

‘न्यू नॉर्मल’ से कैसे ताल बैठाएगी ट्रैवल इंडस्ट्री..

‘न्यू नॉर्मल’ से कैसे ताल बैठाएगी ट्रैवल इंडस्ट्री..

इस साल फरवरी के तीसरे हफ़्ते में पर्यटन से जुड़े कार्यक्रम के लिए मैं आगरा में था। इस दौरान होटल आईटीसी मुगल में रुकना हुआ। एक शाम आईटीसी मुगल की पहचान कहे जाने वाले पेशावरी रेस्टोरेंट में खाने का मज़ा लेते हुए कोरोना की स्थिति पर भी बात हो रही थी। होटल के जनरल मैनेजर भी साथ ही थे। उस वक्त दुनिया इस महामारी को समझने की कोशिश में लगी थी। मैं एक हफ्ते पहले ही मलेशिया से वापस आया…

Read More Read More

केरल – अनोखा है यह राज्य

केरल – अनोखा है यह राज्य

केरल घूमने के मेरे अनुभव को लिखते समय एक ख़बर मेरा ध्यान खींच रही है। हाल में आए आंकड़ों से पता चला है कि साल 2019 में केरल ने पर्यटकों की वृद्धि दर के मामले में पिछले 24 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। पिछले साल 1.95 करोड़ देशी और विदेशी पर्यटक केरल पहुंचे। साल 2018 और 2019 की भयानक बाढ़ और बरसात से हुई तबाही के बावजूद केरल ने यह मुकाम हासिल किया। बाढ़ के बाद केरल में पर्यटन…

Read More Read More

ट्रंप, टूरिज़्म और आगरा

ट्रंप, टूरिज़्म और आगरा

आगरा घूमते समय मेरे गाइड ने कहा “हम आगरा वाले अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के बहुत शुक्रगुजार है कि उनके आने से शहर में इतने काम हो रहे हैं जितने पिछले कुछ वर्षों को मिलाकर भी नहीं किए गए।” मैं राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आगरा दौरे से कुछ दिन पहले एक ट्रैवल कान्क्लेव के लिए आगरा में था। गाइड की कही बात सही नज़र आ रही थी। शहर में हर तरफ काम में लगे लोग दिखाई दे रहे थे। हज़ारों कर्मचारी…

Read More Read More

देवताओं की भूमि- बाली

देवताओं की भूमि- बाली

बाली में आप कहीं भी जाएं तो फूलों से सजी छोटी टोकरियों पर नज़र ज़रूर जाएगी। दुकानों, घरों, समुद्री किनारों या फुटपाथों पर छोटी टोकरियां रखी दिखाई देती हैं। भगवान ब्रह्मा को चढ़ावे के तौर पर इन टोकरियों को रखा जाता है। स्थानीय भाषा में इन्हें चनंग सारी कहा जाता है। बाली पहुंचने पर हिन्दू संस्कृति का सबसे पहला उदाहरण यही नज़र आता है। ख़बूसरत समुद्री तटों, नारियल के पड़ों , जंगलों और पहाड़ों से भरा बाली सही मायने में…

Read More Read More

संस्कृतियों का संगम है मलेशिया का मलक्का शहर

संस्कृतियों का संगम है मलेशिया का मलक्का शहर

मलक्का के डच स्कवायर पर बनी लाल रंग की इमारतें बरबस आपका ध्यान खींचती हैं। मलक्का पर डच कब्जे के दौरान इन्हें बनाया गया था। बाद में अंग्रेजी दौर में इन्हें लाल रंग से रंगा गया। यह मलक्का का ऐतिहासिक इलाका है। 2-3 किलोमीटर में फैले इस छोटे से इलाके ने मलक्का के 600 सालों के इतिहास को समेट रखा है। यही वजह है कि साल 2008 में यूनेस्को ने इस ऐतिहासिक इलाके को विश्व विरासत स्थल का दर्जा दिया।…

Read More Read More