पावापुरी pawapuri

पावापुरी pawapuri

Travel Postcard

24वें जैन तीर्थंकर महावीर स्वामी ने कार्तिक अमावस्या की रात को पावापुरी में ही निर्वाण प्राप्त किया था। इसलिए जैन धर्म में पावापुरी का अहम स्थान है। महावीर स्वामी के अंतिम संस्कार की जगह पर खूबसूरत जलमंदिर का निर्माण किया गया। जलमंदिर एक जैन मंदिर है। पावापुरी, अपापुरी के नाम से भी प्रसिद्ध है क्योंकि यह जगह शुद्ध और पाप से मुक्त मानी गई है। महात्मा बुद्ध के भी पावापुरी आने का उल्लेख मिलता है। पावापुरी बिहार की राजधानी पटना से 100 किलोमीटर की दूरी पर है।

Pawapuri
Lord Mahavira, the final Tirthankar and founder of Jainism, breathed his last at this place, and was cremated here around 500 B.C. It is said that the demand for his ashes was so great that a large amount of soil was removed from around the funeral pyre, creating the water tank. A marble temple, the “Jalmandir”, was later built in the middle of the tank, and is now a major pilgrimage spot for Jains. Another Jain temple called Samosharan is located here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *