जागेश्वर

जागेश्वर

जागेश्वर उत्तराखंड में बसा एक छोटा सा पहाड़ी गांव है। दिल्ली जैसे महानगर की आपाधापी से दूर एक सुकून भरी शांत जगह। यहां आकर पहाड की असली खूबसूरती को निहारा जा सकता है।

ये जगह अल्मोडा से ३० किलोमीटर दूर है । सडक से अच्छी तरह जुडा होने के कारण यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है।

ये गांव अपने शिव मंदिरो के लिए प्रसिद्ध है। यहां एक साथ बने हुए १२४ मंदिर हैं, जिनमें मुख्य मंदिर भगवान शिव का है। इसके अलावा मां दुर्गा का भी मंदिर है। इस जगह की खासियत यहां भगवान कुबेर के मंदिर का होना भी है, जो अपने आप में अनोखा है। कुबेर का मंदिर मेरी अद्यतन जानकारी के मुताबिक कहीं और नहीं है।


ये मंदिर पहाडी स्थापत्य और कला के बेजोड नमूने होने के साथ पुरातत्त्व के नजरिये से भी बहुत महत्वपूर्ण हैं। जिसको देखते हुए भारतीय पुरात्तत्व विभाग ने यहां संग्रहालय भी बनाया है। इसमें जागेश्नवर के मंदिरो से निकली बेशकीमती मूर्तियों को रखा गया है। इन मंदिरों को कुमायुं के कत्यूरी राजाओं ने आठवीं से दसवीं शताब्दी के बीच बनवाया था।

इन मंदिरो को बडे-बडे पत्थरों से जोड़कर बनाया गया। आज से लगभग बारह सौ साल पहले बने इन मंदिरो के पत्थरों को जोड़ने के लिए लोहे की कीलों का प्रयोग किया गया था।

जागेश्वर देवदार के पेडों से घिरी घाटी है जिसकी सुन्दरता देखते ही बनती है। ये जगह समुद्र तल से १८७० मीटर की ऊंचाई पर होने के कारण किसी भी हिल स्टेशन से कम नहीं है।


इस पहाडी गांव में लगभग सौ घरों की बस्ती है। ज्यादातर लोग खेतिहर हैं। जागेश्वर को शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। इस मंदिर के पुजारियों के बारे में माना जाता है कि ये लोग शंकराचार्य के साथ दक्षिण भारत से आये थे। इसलिए इन पंडितों को दक्खिनी भट्ट भी कहा जाता है।


जागेश्वर से आठ किलोमीटर दूर बूढा जागेश्वर है। अगर आप ट्रैकिंग के शौकिन है तो डेढ किलोमीटर के पहाड़ी रास्ते को तय करके की बूढा जागेश्वर जा सकते हैं ।

यहां भी एक शिव मंदिर है,जो कहा जाता है कि जागेश्वर से भी पहले का बना हैं। पहाड की चोटी पर बने इस मंदिर के चारों ओर घना जंगल है। यहां आप बांज और बुंरांस जैसे पहाडी पेड देख सकते हैं। साथ ही मौसम साफ होने पर हिमालय की बफ से ढकी चोटियों को आसानी से देखा जा सकता है।

जागेश्वर मे मोबाईल भी काम नहीं करते इसलिए सुकून भरे कुछ दिन बिताने के लिए ये बेहतरीन जगह है। यहां रहकर आप प्रकृति की अनछुई सुन्दरता को करीब से अनुभव कर सकते हैं।


कैसे जाएं-

दिल्ली से करीब साढे तीन सौ किलोमीटर दूर है। ऐसे में दिल्ली से सीधी बस और ट्रेन की सुविधा से आप सीधे काठगोदाम तक जा सकते हैं। वहां से सीधी बस से आप अल्मोड़ा तक जा सकते हैं। जागेश्वर अल्मोड़ा से महज तीस किमी की दूरी पर है। अल्मोड़ा से आप बस से या प्राइवेट टैक्सी लेकर जागेश्वर तक जा सकते हैं।


कहां ठहरें–

जागेश्वर में ठहरने के लिए ज्यादा सुविधा नहीं हैं। यहां कुमायुं मंडल विकास निगम का बनाया होटल है, जहां ठहरा जा सकता है। इसमें रुकने के लिए पहले से बुकिंग करवा लें, तो अच्छा रहेगा।

अब लोग यहां आने लगे हैं जिसके बाद कुछ गांव वालों ने घरो में छोटे रेस्ट हाउस बना लिए हैं जहां रुकना भी अच्छा अनुभव है। कुमायुं मंडल के होटल का खाना भी बढिया है। जिसके कारण यहां रुकने में किसी भी तरह की असुविधा नहीं होती।

One thought on “जागेश्वर

  1. you have chosen the right path for blogging. web world is filled with political and argumetative blogs. this type of topic gives a kind of freshness from our hectic schdule of work. thanx for Bageshwar tour. I am sure all the pics must have been shot by you only…good but keep writing whenever you have time.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *