Browsed by
Tag: travel posctard

ट्यूलिप गार्डन

ट्यूलिप गार्डन

ट्यूलिप गार्डन
ट्यूलिप शब्द सुनते ही हालैंड का नाम दिमाग आता है। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की एशिया का सबसे बड़ा ट्यूलिप गार्डन कश्मीर के श्रीनगर में है। डल झील के पास बने इस बगीचे में दूर-दूर तक रंगबिरंगे ट्यूलिप खिले नजर आते हैं। बगीचे के पीछे ऊंचे पहाड़ इसको और भी खूबसूरत बना देते हैं। यहां करीब 60 तरह के ट्यूलिप देखे जा सकते हैं। ट्यूलिप साल में केवल कुछ दिनों के लिए अप्रेल के आस पास ही खिलते हैं। श्रीनगर में होने वाला वार्षिक ट्यूलिप उत्सव अब यहां की पहचान बन चुका है।

फिरोज़पुर

फिरोज़पुर


फिरोजपुर
भारत-पाकिस्तान की सीमा पर सतलुज नदी के किनारे बसा है पंजाब का फिरोजपुर। यह सिक्ख इतिहास की अहम जगह है। फिरोजपुर के हुसैनीवाला में क्रांतिकारी भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरू का अंतिम संस्कार किया गया था। उनकी याद में यहां शहीद स्मारक बनाया गया है। हुसैनीवाला में भारत-पाकिस्तान सीमा पर शाम के समय बीटिंग रिट्रीट समारोह देखा जा सकता है। यहीं दो अंग्लो-सिक्ख लड़ाईयां हुई थी । लड़ाई से जुड़े संग्रहालय में उससे जुड़ी जानकारी ली जा सकती है।फिरोजपुर का सारागढ़ी गुरूद्वारा भी सिक्ख वीरता को समर्पित है।फिरोजपुर अमृतसर से करीब 100 किलोमीटर दूर है।

आनंदपुर साहिब

आनंदपुर साहिब

आनंदपुर साहिब
सिक्ख धर्म के प्रमुख स्थानों में से एक है आनंदपुर साहिब। सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख गुरूद्वारों में से एक यहीं है। इसे श्री तख़्त केशगढ़ साहिब कहा जाता है। दसवें गुरू, गुरू गोविंद सिंह जी ने सन् 1699 में बैसाखी के दिन यहीं खालसा की स्थापना की थी। यहां गुरू गोविंदसिंह जी से जुड़ी चीजें रखी गई हैं।आनंदपुर में मनाए जाने वाला होला-मोहल्ला का त्योहार बहुत प्रसिद्ध है। दुनिया भर से श्रद्धालु इस त्योहार में हिस्सा लेने के लिए आनंदपुर साहिब पहुंचते हैं। आनंदपुर साहिब चंड़ीगढ़ से करीब 80 किलोमीटर दूर है।