Browsed by
Tag: nature

कोहका विल्डरनर्स कैंप ( Kohka wilderness camp) – जंगल में बना शांत कोना..

कोहका विल्डरनर्स कैंप ( Kohka wilderness camp) – जंगल में बना शांत कोना..

कोहका विल्डरर्नस कैंप तक पहुंचते-पहुंचते अंधेरा घिर आया था। फरवरी के शुरूआती हफ्ते में हल्की ठंड बनी हुई थी इसलिए गांव के रास्ते में भी कोई खास हलचल दिखाई नहीं दी। पेंच नेशनल पार्क का सफर मेरे लिए खास था क्योंकि पिछले साल में मध्य प्रदेश के दो प्रसिद्ध नेशनल पार्क कान्हा और बांधवगढ़ को देख चुका था और इस साल के सफर की शुरूआत मध्य प्रदेश के ही एक और लोकप्रिय नेशनल पार्क पेंच से होने जा रही थी।

सबसे पहली चीज़ जो कोहका में ध्यान खींचती है वह है यहां की असीम शांति । पेंच के बफर ज़ोन से लगे इस रिजॉर्ट में दूर-दूर तक कोई आवाज नहीं थी। कोहका पहुंचते ही सबसे पहले सौरभ से मुलाकात हुई।
सौरभ ने कुछ साल पहले संजय के साथ मिलकर कोहका रिजॉर्ट की शुरूआत की थी।कहा जाता है कि दुनिया के कुछ बेहतरीन बिजनेस आइडिया यूं ही किसी बातचीत से शुरू हुए हैं। कोहका का सफर भी कुछ ऐसा ही रहा। सौरभ और संजय दोनों की मुलाकात किसी जंगल के एक सफर के दौरान हुई। वहीं दोनों को किसी जंगल में रिजॉर्ट बनाने का ख्याल आया। एक जैसी सोच के कारण उन्होंने बात को आगे बढ़ाया और पेंच में कोहका की शुरूआत की। इसे शुरू करने के समय सौरभ आयरलैंड के एक लक्जरी होटल में अच्छी नौकरी कर रहे थे और संजय मुंबई में चार्टड अकाउंट थे। लेकिन जंगल का प्यार दोनों को पेंच ले आया।इन्होंने इसे एक ईको-फ्रेंडली रिजॉर्ट के तौर पर विकसित किया। कोहका गावं में बना होने के कारण इसे कोहका नाम दिया गया।

ईको- फ्रेंडली है कोहक

कोहका को एक ईको फ्रेंडली तरीके से बनाने और चलाने की कोशिश की गई है। यहां कुल तीन एकड़ के इलाके में केवल 12 कॉटेज बनाई गई हैं। इसलिए यहां कभी भी आयें भीड़ का अहसास नहीं होगा। रिजॉर्ट को बनाते समय वहां लगे किसी पेड़ को काटा नहीं गया। कुछ जगहों पर निर्माण को पेड़ के हिसाब से ही आकर दिया गया है।

रिजॉर्ट में बिजली की जरूरत को पूरा करने के लिए 7 किलोवॉट का सोलर सिस्टम लगाया है जिससे दिन हो या रात कैंप की ज्यादातर जरूरत पूरी हो जाती है।

कैंप को बनाने में जहां तक हो सके सारा सामान स्थानीय स्तर से ही जुटाने की कोशिश की गई है। यहां बहुतायात से मिलने वाली बांस जैसी चीजों का काफी इस्तेमाल किया गया है। कैंप को सजाने और रोशनी के लिए पुरानी कांच की बोतलों से लैंप बनाए गए हैं तो रास्तों पर रोशनी देने के लिए लगी छोटी एलईडी लाइटों को खुद सौरभ ने कैंप में ही तैयार किया है। यहां तक कि बाथरूम में नहाने का शॉवर भी बांस से ही बनाया गया है।

कमरों में गर्म पानी देने के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाला गीजर लगाया गया है।मैं वहां पांच दिन था । पांच दिनों में से एक दिन सुबह से शाम तक बरसात होती रही और दूसरे दिन भी बादलों में पीछा नहीं छोड़ा लेकिन उसके बाद भी तीसरे दिन इस्तेमाल के लायक गर्म पानी मौजूद था।

जैविक खेती
Organic farming at Kohka

यहां रिजॉर्ट के काफी बड़े हिस्से में जैविक खेती की जाती है। रिजॉर्ट में इस्तेमाल की जाने वाली सब्जियों का बड़ा हिस्सा इस खेती से पूरा किया जाता है। जरूरत पड़ने पर सामान को पास के गांव से ही खरीदा जाता है। इस लिए आप निश्चिंत होकर यहां ऑर्गेनिक खाने का मजा उठा सकते हैं।

कोहका का खाना
कोहका के खाने में भी आपको एक सादगी और अलग सा स्वाद मिलेगा। यह स्वाद कुछ तो यहां की ऑर्गेनिक सब्जियों के कारण है और कुछ उस प्यार के कारण जिससे यहां खाना बनाया जाता है। पहले की दाल, सब्जी और रोटियों का स्वाद जुबान पर थी कि अगली सुबह पोहा, इडली के नाश्ते ने तो रंग ही जमा दिया। अगले चार दिनों तक अलग – अलग तरह की सब्जियां और दालें खायीं। सभी में स्वाद और देसीपन था। एक दिन दोपहर में खासतौर से महाराष्ट्र का खाना बनाया गया जिसमें झुमका, भाकर और पूरन पोली शामिल था। सौरभ से मैंने पूछा कि विदेशी मेहमानों के लिए क्या कॉन्टीनेन्टल खाने की व्यवस्था भी है तो उन्होंने कहा कि वे सभी मेहमानों को भारतीय खाना ही खिलाते हैं और सभी इसे प्यार से खाते हैं।

कोहका के कमरे

कोहका के कॉटेज

यहां कुल 12 कमरे हैं जिन्हें कॉटेज की तरह बनाया गया है। कमरों में आपकी जरूरत का फर्नीचर रखा गया है। बांस के बनीं लैंप से कमरे को सजाया गया है जिन्हें स्थानीय कारीगरों से ही तैयार करवाया गया है।
कमरे में सोने के लिए लकड़ी के पलंग लगाने की बजाए सीमेंट से एक चबूतरा बनाया गया है जिस पर गद्दा लगाया गया है। कमरे में पेंच में पाये जाने वाले जानवरों और पक्षियों की तस्वीरें लगी हैं।


कमरों के बाहर बैठने के लिए बरामदा है जहां रिजॉर्ट की हरियाली और यहां के पक्षियों को देखते हुए समय बिताया जा सकता है।
कमरे में आराम का सारा सामान है और सब कुछ बहुत सरल तरीके से सजाया गया है।

समय बिताने की जगहें


तीन एकड़ के इस रिजॉर्ट काफी पेड़ पौधे हैं और अगर आपको तितलियों और पक्षियों को तलाश करने का शौक है तो यह समय बिताने का सबसे अच्छा जरिया है।
यहां एक लाइब्रेरी और टीवी रूम है जहां काफी किताबें और मासिक पत्रिकाएं रखी गई हैं। खेलने के लिए कैरमबोर्ड और लूडो जैसी चीजें भी हैं। मैंने भी दोस्तों के साथ कैरम बोर्ड पर हाथ आजमाया। कैरम खेलते हुए घंटो कैसे बीत गए पता ही नहीं चला।

लाइब्रेरी और टीवी रूम

यहां एक बड़ा स्विमिंग पूल भी है। गर्मी के मौसम में यहां आ रहे हैं तो शाम के समय स्विंमिग पूल के ठंड़े पानी में समय बिताया जा सकता है।

क्या क्या कर सकते हैं

पेंच नेशनल पार्क की सफारी तो यहां का मुख्य आकर्षण है लेकिन उसके अलावा भी यहां काफी कुछ किया जा सकता है। कोहका पेंच के बफर ज़ोन से लगा है। यहां पास के जंगल में नेचर वॉक की जा सकती है। पहुंचने के अगले दिन सुबह 6 बजे हम लोग जंगल में नेचर वॉक के लिए निकले। कैंप के नेचर गाईड अनिल हमारे साथ थे। पास के गांव के रहने वाले अनिल को जंगली जानवरों, पेड़ पौधों और पक्षियों की बहुत अच्छी जानकारी है। वे हर चीज की जानकारी देते हुए चलते हैं। भले ही लंबा चलना था लेकिन उनसे बातें करते हुए और जंगल की सुन्दरता को देखते हुए पता ही नहीं चला कि समय कब बीत गया। हमें तो जंगल में एक दहाड़ भी सुनाई दी हालांकि अनिल ने उसे नहीं सुना इसलिए कहा नहीं जा सकता कि वहां बाघ था या नहीं । हमारी नेचर वॉक पास की कोहका झील पर खत्म हुई।

कोहका झील..

कोहका कैंप से कुछ ही दूरी पर कोहका झील है बहुत साल पहले इसे आसपास के इलाके की पानी की जरूरत पूरा करने के लिए बनाया गया था। कोहका से जंगल के रास्ते झील तक जाकर लंबा समय बिता सकते हैं। आज यह झील पक्षियों को देखने की सबसे बढ़िया जगह है। फरवरी का महीना होने का कारण काफी प्रवासी पक्षी भी यहां थे। मैंने यहां दो दिन में करीब 30-35 तरह के पक्षियों को देखा।इस नेचर वॉक में आदिवासी गांव की जिंदगी को भी करीब से देखा जा सकता है।

शाम को कोहका झील पर चाय और पकौडे़ो का साथ..

एक दिन बाद हम शाम को फिर से झील की सैर पर गए और इस बार सैर के साथ कोहका कैंप ने वहां शाम के चाय और नाश्ते का इंतजाम भी किया था। शाम के ढलते सूरज के साथ झील के किनारे चाय पीने का अलग ही मजा है। मन करता है कि वहीं बैठे रहें। शाम की सैर में संजय भी हमारे साथ थे। उन्हें भी फोटोग्राफी और पक्षियों की बढिया जानकारी है। उनसे पता चला कि कैंप से पास ही एक पेड़ पर उड़न गिलहरी (Flying Squirrel) का बसेरा है। अंधेरा होने पर उसे देखने का मौका मिल सकता है। अंधेरे में काफी देर इंतजार करने पर हमें वह दिखाई दे ही गई। घने अंधेरे और उसके तेजी से उड़ने के कारण उसका फोटो ले पाना संभव नहीं हुआ।

कोहका के पास पचधार नाम का गांव है। यह कुम्हारों का गांव है। यहां मिट्टी के बर्तन और दूसरे समान बनाये जाते हैं। यहां जाकर मिट्टी के बर्तन बनाने में हाथ आजमाया जा सकता है। टेरिकोटा का सामान पंसद करते हैं तो यहां की यादगार के तौर पर सजावटी सामान भी खरीद सकते हैं।

जंगल सफारी —
पेंच आने का असली मकसद तो जंगल सफारी ही होता है। यहां कैंप के पास पेंच नेशनल पार्क का तूरिया गेट है। जहां से सुबह और शाम की सफारी की जा सकती है। यह जंगल बाघ के लिए जाना जाता है लेकिन बाघ ना भी मिले तो दूसरे जानवरों और प्रकृति की सुन्दरता का मजा उठाइये। मुझे भी इस बार बाघ नहीं दिखाई दिया। सफारी आप मध्य प्रदेश वन विभाग की वेबसाइट से बुक कर सकते हैं या पहले से रिजॉर्ट के बता दें तो वे भी इसमें मदद कर सकते हैं।

साथी ट्रेवल ब्लागर- अभिनव, मंजूलिका और स्वाति के साथ पेंच सफारी पर

पेंच नेशनल पार्क का एक गेट है खुरसापार। यह गेट पेंच नेशनल पार्क के महाराष्ट्र वाले हिस्से में पड़ता है। यहां के लिए सफारी की जा सकती है।
पेंच नेशनल पार्क दो राज्यों मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र की सीमा पर है। इसका इलाका दोनों ही राज्यों में बंटा हुआ है। दोनों ही राज्यों के इलाकों में सफारी उपलब्ध है।

कोहका विल्डरनर्स कैंप एक फाउन्डेशन भी चलाता है। जिसके जरिए पास के आदिवासी गावों की शिक्षा और स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए काफी काम किया जाता है। फाउन्डेशन गांव के सरकारी स्कूल के बच्चों के लिए अतिरिक्त कक्षा लगाकर उन्हें पढ़ाने और कंप्यूटर शिक्षा देने का काम भी करता है।
कोहका फाउन्डेशन गांव की महिलाओं के साथ मिलकर ऑर्गेनिक उत्पाद जैसे अचार, पापड, जैम,मुरब्बे , साबुन , शैंपू भी बनाता है। कोहका की रसोई और यहां कॉटेज में यहीं के बने सामान, शैंपू और साबुन इस्तेमाल किए जाते हैं।
इस तरह कोहका कैंप पर्यटकों की जरूरतों को पूरा करने के साथ स्थानीय समाज के विकास में भी योगदान करने की कोशिश कर रहा है। कोहका में काम करने वाले सभी लोग भी आसपास के गावों से ही हैं।

कैसे पहुंचे —-

पेंच नेशनल पार्क नागपुर से करीब 90 किलोमीटर दूर है। नागपुर देश के सभी हिस्सों से रेल और हवाई सेवा से जुड़ा है। नागपुर से पेंच के लिए टैक्सी की जा सकती है।

कब जायें —-
भारत में आमतौर पर सभी नेशनल पार्क मानसून के समय जुलाई से सितम्बर के बीच बंद रहते हैं। इसके अलावा किसी भी समय यहां आया जा सकता है। वैसे गर्मी में अप्रेल से जून का समय जंगली जानवरों के देखने के लिए बेहतर माना जाता है। अगर पक्षियों और खासतौर से प्रवासी पक्षियों को देखना चाहते हैं तो सर्दियों के मौसम में यहां आइये।

( This trip was organised by Kohka wilderness camp )

कुछ तस्वीरें….