Browsed by
Tag: Kashmir

जम्मू-कश्मीर की 10 खूबसूरत जगहें

जम्मू-कश्मीर की 10 खूबसूरत जगहें

भारत के सबसे उत्तर में है जम्मू-कश्मीर। हिमालय के पहाड़ों पर बसे इस राज्य में कश्मीर घाटी से हरे-भरी घाटियों और पानी से भरी झीलों से लेकर लद्दाख के बर्फीले रेगिस्तान तक देखने के लिए बहुत कुछ है। लद्दाख इलाके में प्राचीन बौद्ध मठ देखने को मिलते हैं तो जम्मू और कश्मीर में प्राचीन मंदिर और मस्जिदें देखी जा सकती हैं। जम्मू-कश्मीर की दस चुने हुए जगहों को मैंने इस लेख शामिल किया है ।

1- मार्तण्ड सूर्य मंदिर

कश्मीर घाटी के अनंतनाग के पास मटन गांव में है मार्तण्ड सूर्य मंदिर। इस विशाल सूर्य मंदिर को करीब 1300 साल पहले कश्मीर के राजा ललितामदित्य मुक्तपीड ने बनवाया था। मंदिर हालांकि काफी टूट चुका है लेकिन उस समय के स्थापत्य और मूर्तिकला को आज भी यहां देखा जा सकता है। विशाल पत्थरों और खंभों पर की गई नक्काशी अद्भुत है । माना जाता है कि मंदिर के निर्णाण में कश्मीरी स्थापत्य के साथ यूनानी स्थापत्य की झलक भी मिलती है। यह प्राचीन मंदिर मटन गांव के नए सूर्य मंदिर से करीब 2 किलोमीटर दूर है।

2-अवन्तिस्वामी मंदिर


कश्मीर के अनंतनाग के अवन्तिपुर में है अवन्तिस्वामी मंदिर। विष्णु भगवान के इस मंदिर को नौ वीं शताब्दी में राजा अवन्तिवर्मन ने बनवाया था। अवन्तिवर्मन उत्पल वंश के संस्थापक थे। उस समय की कला के निशान दीवारों पर उकेरी मूर्तियों में देखे जा सकते हैं। बीच में ऊंचे चबूतरे पर मुख्य मंदिर था। मंदिर के चारों कोनों पर चार छोटे मंदिर बने थे। झेलम के किनारे बना यह मंदिर अपने समय में काफी भव्य रहा होगा। माना जाता है कि झेलम नदी की बाढ में यह मंदिर नष्ट हुआ। मंदिर श्रीनगर से पहलगांव जाने वाली सड़क पर ही है।

3-गुलमर्ग


कश्मीर घाटी का गुलमर्ग प्रकृति की सुन्दरता का खजाना है। सर्दियों में गुलमर्ग सफेद बर्फ से ढक जाता है तो गर्मियों में हरी घास का लिहाफ ओढ लेता है। मौसम कोई भी हो इसकी खूबसूरती कम नहीं होती। गुलमर्ग का मौसम कुछ दिन शांति से बिताने के लिए बेहतरीन है। यहां आकर गोंडाला की सवारी का मजा उठायें या कुछ समय यूं ही प्रकृति के साथ बितायें। गुलमर्ग दुनिया के सबसे अच्छे स्की रिजोर्ट में शामिल किया जाता है तो सर्दियों में इस खेल को भी यहां सीखा जा सकता है।गुलमर्ग श्रीनगर से करीब 50 किलोमीटर दूर है।

4-डल झील


श्रीनगर शहर की पहचान है डल झील।डल के चारों तरफ दिखाई देते हरे-भरे ऊंचे पहाड और झील में चलते रंग-बिरंगे शिकारे इसकी सुन्दरता को और भी बढ़ा देते हैं। डल सिर्फ एक झील नहीं बल्कि तैरता शहर है। जहां हजारों लोग रहते हैं। डल में अपना बाजार और स्कूल भी हैं।तैरते खेत डल की सबसे बडी खासियत हैं जिन्हें शिकारे से बांध कर कहीं भी ले जाया जा सकता है । डल का पूरा मजा लेना है तो कुछ दिन हाउसबोट में बिताना जरूरी है। ये हाउस बोट अंग्रेजों के जमाने से ही डल में हैं।

5-मुगल गार्डन

श्रीनगर के मुगल बगीचे कश्मीर की खूबसूरती से होड करते लगते हैं। इन बगीचों को फारसी वास्तुकला की चारबाग शैली के आधार पर बनाया गया था। समकोण पर काटते रास्ते, बगीचों में बहती नहरें, पानी उलीचते फव्वारे एक अलग ही दुनिया रच देते हैं। बगीचों में लगे चिनार के पेडों के नीचे बैठने का मजा यही आकर लिया जा सकता है। मुगल बादशाहों ने करीब चार सौ साल पहले इन बगीचों को बनवाया था। श्रीनगर में शालीमार बाग, निशात बाग, चश्मेशाही ये तीन मुगल बगीचे आज भी मौजूद हैं।

6-पहलगाम

कश्मीर घाटी का जाना-पहचाना हिलस्टेशन है पहलगाव। ऊंचे पहाडों और हरे-भरे चारागाहों से घिरे पहलगाम में आकर प्रकृति की गोद में आने का अहसास होता है। बगल से बहती लिद्दर नदी इसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा देती है। पहलगाम के पास देखने के लिए कई घाटियां हैं जिनमें अरू घाटी सबसे लोकप्रिय है। पहलगाम किसी भी मौसम में आया जा सकता है। पहलगाम भगवान शिव की अमरनाथ यात्रा का भी प्रमुख पडाव है।पारम्परिक अमरनाथ यात्रा का रास्ता पहलगाम से ही होकर जाता है। पहलगाम श्रीनगर से करीब 90 किलोमीटर दूर है।

7-सोनमर्ग

मर्ग का मतलब होता है घास का मैदान। इन्हीं हरे भर घास के मैदानों से भरा है कश्मीर घाटी का सोनमर्ग। सोनमर्ग के पास कई ग्लेशियर हैं जिनमें पूरे साल बर्फ जमा रहती है। इसके साथ ही सोनमर्ग से बहुत से ट्रेंकिग रास्तों की शुरूआत भी होती है। कश्मीर की ऊंचाई पर बनी गद्सर, कृष्णासर, सत्सर और गंगाबल जैसी झीलों के लिए भी ट्रेंकिग सोनमर्ग से ही होती है। सोनमर्ग नाला सिंध नदी के किनारे बसा है। इस नदी के तेज बहते पानी पर राफ्टिंग भी की जा सकती है। सोनमर्ग श्रीनगर से 80 किलोमीटर दूर है।

8-लेह


 जम्मू कश्मीर राज्य का एक खूबसूरत शहर है लेह । यह ठंडा रेगिस्तान कुदरत की कारीगरी का अद्भुत नमूना है। घाटी में बिखरी थोड़ी सी हरियाली, भूरे पहाड़, पहाडों की बर्फीली चोटियां और सबसे ऊपर साफ नीला आसामान रंगों का ऐसा ताना-बाना बुनते हैं कि कुदरत की कलाकारी पर नाज़ होता है। यहां की धरती में भले ही रंगों की कमी हो लेकिन चटख लाल और पीले रंगों से सजे बौद्ध मठ उसका अहसास नहीं होने देते। लेह में 17वीं शताब्दी का बना किला  इस शहर पर एक मुकुट की तरह नजर आता है।
लेह शहर बसा है सिंधु नदी के किनारे।  वही  सिंधु नदी जिसके  नाम से इस महान देश का अपना पहचान मिली। 
 
 
9-नुब्रा घाटी

 समुद्र तल से 10,000 फीट का ऊंचाई पर ठंडे, रूखे पहाडों के बीच रेत के टीलों की कल्पना की है आपने? लद्दाख की नुब्रा घाटी का हुन्डर इलाका प्रकृति का अजूबा ही है। यहां आकर लगता है जैसे रेत के टीलों से भरे राजस्थान में आ गए हों। इसी रेगिस्तान में दो कूबड वाले अनोखे बैक्ट्रीयन ऊंट भी पाये जाते हैं । सूखे – बंजर लद्दाख से अलग नुब्रा में काफी हरियाली नजर आती है। इसके साथ ही 350 साल पुराना डिस्किट बौद्ध मठ नुब्रा की पहचान है।

10-पैगोंग झील

प्रकृति का एक अजूबा है पैंगोग झील। लद्दाख में 14000 फुट की ऊंचाई पर 135 किलोमीटर लंबी नमकीन पानी की झील है पैगोंग। यह झील भारत और चीन की सीमा रेखा भी बनाती है । झील का दो तिहाई हिस्सा चीन में और एक तिहाई भारत में है। झील का पानी सूर्य की रोशनी के साथ पल-पल रंग बदलता है इसके अद्भुत रंगों की छटा देखते ही बनती है। पैंगोंग के रास्ते में चांग-ला से गुजरने वाली दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची सड़क देखने का मौका भी मिलेगा

(2017 में दुनियादेखो पर पूरे वर्ष ट्रेवल पोस्टकार्ड सीरीज चलाई गई। इस लेख में शामिल जगहों को उन्ही पोस्टकार्ड से एक जगह जमा करके यहां लिखा गया है।)

खै़बर हिमालयन रिजॉर्ट एंड स्पा- विलासिता का अनुभव

खै़बर हिमालयन रिजॉर्ट एंड स्पा- विलासिता का अनुभव

मेरे होटल के कमरे की बालकनी के बाहर स्वर्ग जैसा नजारा था। दूर-दूर तक चांदी सी सफेद बर्फ बिछी हुई थी। चारों तरफ खड़े देवदार के पेड़ बर्फ से लदे थे। वहां के शांत माहौल के बीच बस पेड़ों से फुगनियों से गिरती बर्फ या बर्फ के बोझ से टूटती टहनियों की आवाज ही सुनाई दे रही थी। लग रहा था जैसे सफेद बादलों के बीच कोई परी लोक हो। मैं कश्मीर के गुलमर्ग में होटल खै़बर हिमालय रिजॉर्ट और स्पा में था।कुछ देर पहले ही मैं दिल्ली से गुलमर्ग आया था और इतनी ही देर में होटल ने मुझे लुभा लिया था।

कमरे की बालकोनी से बाहर का नज़ारा

खै़बर जैसे पहाड़ों के बीच बना एक महल ही है। एक लक्जरी होटल से आप जो कुछ चाहते हैं वह सब कुछ यहां मिलेगा। उसके साथ गुलमर्ग के दिल को लुभा लेने वाले नजारों का साथ मिल जांए तो छुट्टी बिताने वाले को और क्या चाहिए।

होटल में अंदर जाते ही सबसे पहले इसकी विशाल लॉबी दिखाई देती है। लॉबी को स्थानीय कश्मीरी हस्तशिल्प से सजाया गया है। दीवारों पर कश्मीर का बारीक लकड़ी का काम किया गया है। हॉल में ऊपर की तरफ खूबसूरत कश्मीरी लकड़ी के काम वाली खिड़कियां जिन्हें स्थानीय भाषा में दाब कहा जाता है, बनाई गई हैं। ऐसा लगता है जैसे लकड़ी के किसी महल में आ गए हों। बाहर के सर्द मौसम में वहां का गर्म माहौल मुझे बहुत सुकून दे रहा था। उसी बीच मेरा स्वागत कश्मीर की पहचान कहवा से किया गया। वहां हॉल के आखिरी कोने में चायकश नाम से पूरे दिन चलने वाला रेस्टोरेंट हैं। जहां गर्म कहवा के साथ बाहर के बर्फ से नजारों का पूरा मजा ले सकता है। यहां बैठे कब वक्त बीत जाए पता ही नहीं चलता।

कश्मीर की कारीगरी से सजा हॉल

कमरे —

कमरे की बालकोनी से बाहर का नज़ारा

मैं खै़बर के लक्जरी बालकनी कमरे में रहा जहां से हिमालय का पूरा नजारा दिखाई देता था। कमरा सही मायने लक्जरी ही था। खासा बड़ा कमरा जो हमारे शहरों किसी छोटे फ्लैट से कम नहीं था। कमरे को कश्मीरी हस्तकला की चीजों से बड़ी ही खूबसूरती से सजाया गया था। बड़े से बिस्तर पर कश्मीर की कशीदाकारी की चादर बिछी हुई थी। हालांकि इतने सुन्दर माहौल के बीच टीवी देखने का मन शायद ही किसी का करे फिर भी चाहें तो बड़ी सी स्क्रीन वाले टीवी पर मनचाहे कार्यक्रमों को देखते हुए वक्त बिताया जा सकता है। किसी लक्जरी होटल में मिलने वाली सभी दूसरी सुविधाएं यहां भी थी। एक बात मुझे खास तौर से नजर आई कि कमरे में इस्तेमाल के लिए जो भी सामान रखा था वो बहुत बेहतर क्वालिटी का था। कमरे में लगे फर्नीचर को स्थानीय कारीगरों ने ही बनाया था जिसमें अखरोट की लकड़ी का इस्तेमाल किया गया था।
कमरे से बाहर निकल बालकनी में आएं तो फिर शायद कहीं और जाने का मन ही नहीं करेगा। रात के समय मद्दम रोशनी से नहाए रिजॉर्ट का खूबसूरत नजारा बालकनी से दिखाई देता है।

खूबसूरती से सजा कमरा..

कमरे की बात हो रही है तो बताता चलूं कि खैबर का प्रेज़डेन्शल स्वीट बहुत लोकप्रिय है। जाने-माने लोग इसमें वक्त बिताना पसंद करते हैं।पता चला कि कभी – कभी तो ये स्थिति हो जाती है कि स्वीट खाली ना होने पर कुछ लोगों ने अपने आने का कार्यक्रम ही कुछ दिनों के लिए आगे बढ़ा दिया क्योंकि उन्हें इसी में रूकना था।

प्रेज़डेन्शल स्वीट

होटल के गलियारों की छतों को कश्मीर में छतों पर लकड़ी से की जाने वाली कारीगरी – खतमबंध से सजाया गया था। खतमबंध छतों को लकड़ी से सजाने का कश्मीर का पारम्परिक तरीका है। देखने में यह निहायत ही खूबसूरत दिखाई देती है। खतमबंध में लकड़ी को छोटे टुकड़ों को एक ज्यामितिय डिजाइन में एक दूसरे से जोड़ा जाता है।

खाने – पीने की जगह
खै़बर में आराम के साथ मेहमानों के खाने पीने का भी पूरा ध्यान रखा जाता है। यहां दिन के समय वक्त बिताने के लिए चायकश है। यह पूरे दिन चलने वाला कॉफी शाप जैसा है जहां कश्मीर कहवा, अलग-अलग तरह की चाय , कॉफी और पेस्ट्री का मजा लिया जा सकता है। चायकश ऐसी जगह बना है कि कुछ करने का मन ना हो वहीं बैठ कर होटल की हलचल को देखते रहे या बाहर के नजारों को निहारतें रहे। चायकश के पास ही छोटी सी लाइब्रेरी भी हैं जहां से किताबें निकालें और चाय की चुस्कियों से साथ समय बिताएं। खैबर में काम करने वाले लोग अपने मेहमानों की हर सुविधा का ख्याल रखते हैं। आप कुछ मांगे तो शायद ही आपको ना सुनने को मिले।

क्लोव —
यह खैबर का मुख्य रेस्टोरेंट हैं। सुबह से नाश्ते से लेकर रात के खाने तक का इंतजाम यहीं किया जाता है। सुबह के नाश्ते में मैंने स्वादिष्ट दक्षिण भारतीय खाने जैसे इडली और सांभर बड़ा का भरपूर मजा उठाया। इसके अलावा सुबह के समय पराठें से लेकर कान्टीनेन्टल तक हर तरह का खाना मौजूद रहता है। कश्मीर की ठंड में पूरे दिन घूमने के लिए सुबह का स्वादिष्ट नाश्ता सबसे जरूरी चीज है।
क्लोव में दिन और रात के खाने के लिए भी पूरा इंतजाम है। यहां लगे बुफे में खाना खाया जा सकता है। अगर आप चाहें तो मेन्यू के हिसाब से अपने लिए खाना आर्डर भी कर सकते हैं। लगभग हर तरह का खाना यहां का मेन्यू में उपलब्ध है। खाना स्वादिष्ट है। लेकिन मेरा सबसे पंसदीदा रहा यहां का कश्मीर वाजवान।

कश्मीरी वाज़वान

एक दिन दोपहर में खास कश्मीर वाजवान बनवाया गया था। आमतौर पर लोग सोचते हैं कि कश्मीरी वाजवान में मांसाहारी खाना ही बनाया जाता है। लेकिन कश्मीरी वाजवान में शाकाहारी व्यंजनों की भी कमी नहीं हैं। मैं शाकाहारी हूँ और मेरे सामने इतने तरह के कश्मीरी व्यंजन परोसे गए ही खत्म करना मुश्किल था। कश्मीर में होने वाली कमल ककड़ी, राजमा तो खास है ही। यहां की हरी सब्जियों का साग जिसे हाक कहते हैं, स्वाद में अलग था। चावल के बिना तो कश्मीर को खाना पूरा हो ही नहीं सकता। कमलककड़ी को नादुर कहा जाता है तो यहां थी नादुर यखनी, दम आलू, पनीर, राजमा और हरा-भरा कबाब। इसका साथ देने के लिए कई तरह की चटनियां और दही। इस पर पेट ना भरे तो खाने के आखिर में मीठी केसर वाली फिरनी तो है ही। कश्मीर के वाजवान का वो स्वाद मुझे अभी भी याद है।

वाज़वान

L’OCCITANE SPA


खैबर की एक खासियत है यहां का स्पा। कुछ दिन गुलमर्ग घूमने के बाद थकान उतारने के लिए यह बेहतर जगह है। यहां काम करने वाले लोग अपने काम में पूरी तरह प्रशिक्षित हैं। मैंने यहां स्वीडिश और हॉटस्टॉन स्पा लिया। इन दो स्पा के बाद में मैं कश्मीर में अपनी अगले पूर एक हफ्ते के सफर के लिए पूरी तरह से तरोताजा हो गया था।

इंडोर स्विमिंग पूल

बर्फ के बीच नहाने का मजा

बाहर बर्फ गिर रही हो और तापमान शून्य से नीचे हो तो पूल में जाने का मन शायद नहीं करेगा। लेकिन अगर पूल में गर्म पानी मिले और कांच से इंडोर पूल ढकी उसकी दीवारों से बाहर गिरती बर्फ का अहसास भी होता रहे तो कौन नहीं डुबकी लगाना चाहेगा। खै़बर का स्विमिंग पूल कुछ ऐसा ही है। एक बार इसे देख लेने पर एक डुबकी लगाए बिना मन मानेगा ही नहीं। पूल एरिया के पास ही जकूज़ी भी लगाई गई हैं।

खैबर के लिए एक बात बताना जरूरी है। गुलमर्ग कुछ साल पहले तक पर्यटकों के लिए दिन बिताने की एक जगह थी। आमतौर पर पर्यटकों की गाड़ियां श्रीनगर से दिन में यहां आती थी और पूरा दिन घूमने के बाद शाम को लोग लौट जाया करते थे। श्रीनगर के नजदीक होने के कारण यहां बहुत कम लोग रूका करते थे। उसके साथ कश्मीर के बिगड़े हालातों के कारण स्थिति और भी खराब हुई। लेकिन खै़बर जैसे लक्जरी होटल के आने के बाद अब गुलमर्ग की स्थिति में बदलाव आया है। लोग अब यहां सिर्फ घूमने नहीं बल्कि कुछ दिन रूकने भी आते हैं। अप्रेल के जिस समय में वहां गया था वह पर्यटकों के लिहाज के ऑफ सीजन कहा जाता है। उसके बावजूद होटल लगभग पूरा भरा था। भारत के लगभग हर कोने से आए लोग वहां थे। तो यह दिखाता है कि पर्यटन की सुविधाएं कैसे किसी जगह के हालात में परिवर्तन ला सकती हैं।

तो अगर कुछ दिन कश्मीर में बिताना चाहते हैं तो खै़बर को चुन सकते हैं। मैं कह सकता हूं कि आप निराश नहीं होंगे। सर्दियों में आएं तो बर्फ से ढका स्वर्ग आपके लिए होगा और अगर गर्म मौसम में आएं तो गुलमर्ग का हरे भरे घास से ढ़के मैदान आपका स्वागत करेंगें।

कैसे पहुंचें—
गुलमर्ग श्रीनगर से करीब 50 किलोमीटर दूर है। श्रीनगर शहर या एयरपोर्ट से यहां आने के लिए टैक्सी आसानी से उपलब्ध है। आप चाहें तो होटल की गाड़ी भी आपको लेने के लिए एयरपोर्ट आ जाएगी।

क्या करें—-
गुलमर्ग स्किइंग के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। स्कीइंग की उन ढ़लानों को देखने के लिए केबल कार के जरिए ऊपर की बर्फीली चोटियों तक जाया जा सकता है।इसकी सबसे ऊंची अफरावत चाटी है जहां पूरे साल बर्फ जमी रहती है। इसके अलावा गुलमर्ग गोल्फ मैदान, मंदिर और चर्च देखे जा सकते हैं।

Pic by – Abhinav Singh of https://asoulwindow.com

Note– This trip was organised by The khyber himalayan resort & spa